Computer Class Ki Love Story: मुझे तुमसे प्यार था | कंप्यूटर क्लास लव

पागलों की तरह उस केबिन में अंदर-बाहर करती थी, जहां तुम बैठते थे, तुम्हारी एक झलक पाने को। किसी से पुकारते हुए तुम्हारा नाम तो सुन लिया था, कभी हिम्मत ही नहीं हो पाई कि तुमसे कुछ कह सकूँ।

computer-class-ki-love-story-mujhe-tumse-pyar-tha-Hindi-Kahani-ektarfa-class-ki-Prem-Kahani
Mujhe Tumse Pyar Tha Hindi Love Story

Computer Class Ki Love Story: Mujhe Tumse Pyar Tha
कंप्यूटर क्लास की लव स्टोरी: मुझे तुमसे प्यार था

क लहर दूर से उठती हुई आई और मुझे रेत पर लिखे उस नाम के साथ भिगो गई, जिसमें मैं उसका चेहरा ढूंढ़ने की कोशिश कर रही थी, जो बरसों पहले कहीं खो गया था। पर उसकी कसक तो दिल में आज भी कहीं धड़कन बनकर धड़कती है। 


इस याद को शोलों की तरह भड़का दिया हवाओं ने, जो अभी-अभी लहरों को छूकर आई है और सीधा मेरे चेहरे पर गिरी है। पानी से भीगा चेहरा, कंपकंपाते होंठ आज भी उस छुअन को महसूस करते हैं, जो अनजाने में ही सही पर छुआ तो था। उसकी याद ही काफी थी तड़पने को, फिर न जाने क्यों यह प्रकृति, लहर और हवा मेरे अंदर तबाही मचा गए? 


रोकने की कोशिश तो खूब की पलकों ने, पर इश्क में पागल ये आंसू खुदकुशी करते रहे और मेरे आंचल को भिगोते चले गए। जानती हूं यह अहसास बरसों पुराना है, शायद दस वर्ष बीत गए परंतु टीस अब भी कहीं बाकी है। उस समय लगता था महज आकर्षण है, परंतु आज जिस तरह से अश्क अपनी जुबानी तुम्हें याद करते हैं, तुम्हें सोचते ही होंठों का कंपकंपाना, धड़कनों का रुक-रुक कर बढ़ना, पसीने का थम-थम के मचलना, मुझसे यही कहते हैं कि मुझे तुमसे प्यार था... | 


पागलों की तरह उस केबिन में अंदर-बाहर करती थी, जहां तुम बैठते थे, तुम्हारी एक झलक पाने को। किसी से पुकारते हुए तुम्हारा नाम तो सुन लिया था, लेकिन कभी हिम्मत ही नहीं हो पाई कि तुमसे कुछ कह सकू। कुछ बात शुरू कर सकूँ। कहना तो शायद तुम भी मुझसे कुछ चाहते थे। इतना भांप लिया था मैंने लेकिन संकोच ने शायद हम दोनों को बांधे रखा था। आज भी तुम्हारी यादें मुझे तन्हा नहीं छोड़ती, चली आती हैं तन्हाई बांटने को।


मुझे आज भी तुम सबसे अलग कंप्यूटर पर काम करते दिखाई देते हो। कब तुम चले जाते थे पता ही नहीं चलता था। यही पता लगाने के लिए मैंने क्लास के बाद बैठना शुरू किया। तब पता लगा तुम सबके जाने के बाद कंप्यूटर पर प्रैक्टिस करते हो। बस फिर क्या था, मैंने भी ऐसा ही करना शुरू कर दिया। उस पल सिर्फ हम दोनों ही होते थे।


तुम इतने आकर्षक जो थे। आज भी जब तुम्हारे बारे में सोचती हूं तो दिल की धड़कनें और बढ़ जाती हैं। शायद वो प्यार ही था या है जो आज भी इतने बरसों बाद आखें तुम्हें ही तलाशती हैं। तब भी मैं तुम्हें ही निहारती रही और तुम मुझे।


तुमहरा व्यक्तित्व आकर्षक था और उस पर तुम्हारा शांत, सौम्य व्यवहार। सुबह का समय रहा होगा जब तुम मुझसे अनायास ही टकरा गए। सेंटर में दाखिल होने के लिए हमने एक साथ दरवाजे का हैंडल पकड़ा। तुमने अचानक ही मुझे छुआ और फिर मेरी नजरें तुमसे टकराईं। यकायक दिल की धड़कनें बढ़नी शुरू हो गईं, सांसे जैसे थम गई। तुम्हारे स्पर्श में जाने क्या बात थी। बड़ी विनम्रता से अपने को मुझसे दूर करते हुए तुमने मुझे पहले जाने को कहा।


मैंने प्यार से सिर हिला दिया जैसे तुम्हें 'थैक्यू' कह रही हूं। तुम्हें निहारने के लिए मैं भी देर तक रुकने लगी। तुम तो प्रैक्टिस करते थे पर मैं कंप्यूटर पर तुम्हारा नाम लिखती थी, डिलीट करती थी। तुम्ही से प्यार करती थी, तुम्हीं से ही छिपाती थी। कुछ पल ऐसे आते थे जब हमारी नजरें टकराती थीं। यूं ही दिन-ब-दिन बीतने लगे। 


मेरे अंदर अब बदलाव आ रहा था। मैं अपने आप को अच्छी लगने लगी थी। आईना मेरा दोस्त बन चुका था। अपने आप को सजाने संवारने लगी थी, ताकि तुम्हें अच्छी दिख सकू। तुम्हारे लिए मेरी चाहत बढ़ रही थी। मैं अपने आपको अब पूरी तरह से तैयार कर चुकी थी। वह दिन आखिरी दिन था, डांस पार्टी का आयोजन रखा हुआ था। तुम्हें अपने दिल की बात जो बतानी थी कि मैं तुम्हें पसंद करती हूं। 


मेरी आंखें पागलों की तरह तुम्हें ढूंढ़ रही थी उस पार्टी में कि तभी मैंने तुम्हें देख लिया। मैं तुम्हें निहार रही थी और तुम मुझे। मैं तुम तक पहुंचना चाहती थी, , दूरी ज्यादा भी नहीं थी, बस चंद कदम ही तो थे जो मुझे तय करने थे। मैं तुम्हें रोकना चाहती थी, सामना करना चाहती थी। पर न जाने क्यूं तुम तक पहुंच न सकी। चंद कदमों का फासला दूरी में बढ़ता चला गया। मेरे देखते ही देखते तुम ओझल हो गए, मैं तुम्हारे पीछे दौड़ी पर तुम कहीं नहीं थे। मैं वहां खड़ी उस रास्ते को घंटों निहारती रही। 


अश्क-ब-अश्क बहते चले गए, दिल रो रहा था। सिसकियां कहती जा रही थीं- एक बार आ जाओ...मुझे तुमसे कुछ कहना है।


܀܀܀܀܀

 💓💔💕💖💗

.....

..... Computer Class Ki Love Story: Mujhe Tumse Pyar Tha .....

Team Love Story In Hindi

No comments:

Powered by Blogger.