Very Sad Love Story In Hindi: सिसकियां | वैरी सैड लव स्टोरी हिंदी

Very-Sad-Love-Story-In-Hindi-Siskiyan-Kahani-True
Siskiyan Sad Hindi True Love Story 

Very Sad Love Story In Hindi: Siskiyan
वैरी सैड लव स्टोरी इन हिंदी: सिसकियां

रे क्या हुआ तुम्हें ऐसे उदास क्यों बैठे हो।"


'कुछ नहीं तुम्हे बहुत ज्यादा ही मिस कर रहा।" 


'अच्छा, तो इसीलिए इतनी बातें की जा रही है आज मुझसे," उसने मुस्कुराते हुए कहा। 


" नहीं नहीं कोई ऐसी बात नहीं है, तुमहे अच्छे से पता है कि मैं आपको बहुत मिस करता हूं।" 


"हां बाबा जानती हूं, बस आपको तंग कर रही थी आपको परेशान करना अच्छा लगता है न मुझे," उसने चहकते हुए कहा। 'अच्छा ये तो बताओ कि किस खुशी में पहाड़ों में अकेले घूम रहे हो।" 


"बहुत दिन से कुछ भी अच्छा नही फील हो रहा था, सो बाइक लिया और फ्रेश हवा में सांस लेने निकल आया।" 


"यार मन तो मेरा भी है बहुत तुम्हारे साथ बाइक ट्रिप करने का, पर तुम्हें पता है न मैं चाह कर भी नहीं आ सकती।" 


"जानता हूं। वैसे आपको पता है जब बाइक चलाते समय हवा में उड़ती हुई आपकी जुल्फें मेरे चेहरे से आ कर टकराती थीं, तो बड़ा अच्छा लगता था मुझे। तुम जानती हो मैं जानबूझ कर स्पीड बढ़ा देता था, ताकि तुम मुझे जोर से पकड़ लो।"


"मैं कोई घबराती नहीं थी स्पीड से, मुझे भी तो तुम्हें अपनी बांहों में जकड़ने का बहाना चाहिए होता था।" फिर कुछ देर के लिए खामोशी छा गयी। “चुप क्यों हो गए।" 


"तुम्हें याद है आज कौन सा डे है।" 


"हां, आज पूरा एक साल गया है उस शाम को।"


"तुम समझती क्यों नहीं कि मैं खुद को माफ नहीं कर सकता, क्योंकि वह सब कुछ मेरी गलती के कारण हुआ था।" "क्या तुम अब भी मुझसे नाराज हो।"


"नहीं तो, तुम अब तक उस बात को ले कर बैठे हो। कितनी बार बोल चुकी हूं कि तुम्हारी गलती नहीं थी उसमें। अब अपने आपको कोसना बंद करो।"


"तुम्हारे लिए यह कहना आसान है, तुम्हारा क्या है तुम तो आराम से बैठी हो वहां।"


"मैं जानती हूं तुम अभी तक खुद को जिम्मेदार मानते हो उसके लिए, पर आखिर कब तक इस तरह गिल्ट में जी कर खुद को टार्चर करते रहोगे।"


"तुम समझती क्यों नहीं कि मैं खुद को माफ नहीं कर सकता उस दिन के लिए, क्योंकि वह सब कुछ मेरी गलती के कारण हुआ था। एक दिन ऐसा नहीं गुजरा है जब मैं उस शाम के बारे में नहीं सोचता। ना चाहते हुए भी सब कुछ फ्रेम बाई फ्रेम याद है मुझे। काश मैंने उस दिन मोड़ पर स्पीड नहीं बढ़ायी होती, काश मैंने उस कार को ओवरटेक ना किया होता, काश ! मैंने तुम्हें हेलमेट उतारने ना दिया होता, तो आज यहां अकेले बैठ कर तुम्हारी तसवीर से बात नहीं कर रहा होता !


"तुम बोलती हो कि भूल जाओ सब, पर कैसे भूलूं मैं और क्या-क्या भूल जाऊं मैं। एक्सीडेंट से पहले का वीडियो आज तक डिलीट नहीं कर पाया, क्योंकि उसमें तुम्हारी आखिरी हंसी है और तुम्हारी आखिरी चीख भी, जो आज भी मेरे कानों में गूंजती है। कैसे भूल जाऊं तुम्हारा वो ठंडा पड़ता जिस्म और बंद होती आंखें ! कैसे भूल जाऊं कि आहिस्ता-आहिस्ता तुमने मेरी बाहों में दम तोड़ा और मैं कुछ नहीं कर पाया था। कैसे भूल जाऊं कि उस दिन मैं जिंदा बच गया और तुम नहीं।" ढलते सूरज और घिरती शाम में आज एक बार फिर उसकी सिसकियों ने स्पीड पकड़ ली।


܀܀܀܀܀

 💓💔💕💖💗

.....

..... Very Sad Love Story In Hindi  .....

Team Love Story In Hindi

No comments:

Powered by Blogger.